Saturday, May 28, 2016

Naari ka saaj singar (Kavita)

एक महिला के साज - सिंगार का कविता के द्वारा ब्यौरा - वर्णन....

नारी का साज - सिंगार 

कवि - विदुर सूरी

सुनिए सुनिए छबि का ब्यौरा अति सुन्दर सुरूप साज सिंगार
बरनूँ सज - धज सोलह सिंगार नारी का रूप निखारे जो

सिख पर जूड़ा और चोटी का फूल केस की बेनी वहाँ जड़ें कुसुम
माँग पे लटके टीका सिर से, पास सहारा उसकी पट्टी

माथे बिंदिया टिकली दमके, आँखें काली अंजवाई हुईं
नाक में नथुनी गोल गड़ारी, लौंग छेद में नथने में लगा

होंठ लाल रंगे रंगत से रंगीले डंडे से लीपे
कान के ऊपर गहे कानफूल, नीचे करनफूल झुमके बाली

लटकन लटके लहरे चलते, कभी टिके सहारे से जकड़े
गल पे माला हार नौलखा, रानी का हार, हार हर प्रकार

मोती की लड़ी हार रतन मनि सब मनियों से मालाएँ हों जड़ी
गिरें छाती पर गले से लेकर सिकड़ियाँ लड़ियाँ सुंदर गढ़ीं

कटि पे करधनी तागड़ी हो तन पर सुवसन रंगीला - सा
पीठ पे बँधे चोली उसके नीचे का तन कपड़े से ढंका

रंग ढंग और गढ़ाई मनभावने लहंगा ओढ़नी आड़ शरीर की
टखनों पर नेवर पायल झन - झनकार करे बजके चलते

हाथों पर कंगन कड़े बंगड़ी चूड़ी पहुंचे गजरे भी
उँगली अंगूठी मूठी हथफूल हाथ और पाँव मेहँदी - लीपे

यों बरना सलोना साज - सिंगार सजावट स्त्री - शोभा में निखार
न लोभ, न ओछी दीठ, न भेद, केवल छबि एक राय दिखाई

© Vidur Sury. All rights reserved
© विदुर सूरी। सर्वाधिकार सुरक्षित

No comments:

Post a Comment

Thank you for reading! I welcome your valuable comment!